पान:वाचन (Vachan).pdf/१४३

विकिस्रोत कडून
Jump to navigation Jump to search
या पानाचे मुद्रितशोधन झालेले आहे


लेण्टर -

■ बुद्धिमानों की रचनाएं की एकमात्र ऐसी अक्षय निधि है जिन्हें हमारी सन्तति विनष्ट नहीं करत सकती ।


थॉमस ए. केम्पिस -

■ मैंने प्रत्येक स्थान पर विश्राम खोजा, किन्तु वह एकान्त कोने में बैठकर पुस्तक पढ़ने के अतिरिक्त कहीं प्राप्त न हो सका ।


बाइबल -

■ अधिक पुस्तके संजोने का कहीं अन्त नहीं है । अधिक अध्ययन शरीर की थकावट हैं ।


थोरो -

■ पुराना कोट पहनो और नई किताब खरीदो ।


बनारसीदास चतुर्वेदी -

■ पुस्तक प्रेमी सबसे अधिक धनी और सुखी है ।



■ ■

वाचन/१४२